Wednesday, 13 August 2014

भ्रष्टाचार


कभी प्रशासनिक,
 तो कभी शैक्षिक| 
भ्रष्टाचार का विशाल दायरा...
बढता जा रहा है। 
कालाबजारी , मुनाफखोरिओं से पाला 
पडते जा रहा है |
                           
                           
                           अब भी … 
                           देखाया नहीं ..
                           चलिये अनदेखा ही सही|
                           पर सोचेंगे तो जरूर,
                           सोचना ही पडेगा|
                           आखिर मौन तो इसका उपाय नहीं,
                           कल कोई और था आज आप हैं |
                           अब तो जागिए|
                           भ्रष्टाचार स्वयं में अभिशाप है,
                           कब तक तृष्णा से लिपटे,
                           भोग विलास को इतना सीचेंगे स्वार्थ से |
                           कब तक
                           कब तक मिलावटी रेत से बनी इमारतों में,
                           सच्चित्र बेचेंगे पूरे मान से |
                           सच्चे सदाचार को छोड पीछे 
                           जन चेतना सोई जान पड़ती है |
                           जागरूकता तो दूर 
                           यहां तो
                           जागृति की सोच पर भी कीमत लगती है |
                           अचरज होता है आज कहते हुए
                           अचरज होता है आज कहते हुए- "भारत भाग्य विधाता" |

प्रस्तुतकर्ता: भावना जोशी

No comments:

Post a Comment